माइक्रोप्रोसेसर

Microprocessor कंप्यूटर का दिमाग होता है और कंप्यूटर में होने वाला सारे काम Microprocessor पर ही  निर्भर होता है। कंप्यूटर में Hardware और चल रहे Software द्वारा दी गई Instruction और  Process को माइक्रोप्रोसेसरके द्वारा  नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है |  माइक्रोप्रोसेसर कंप्यूटर का एक आंतरिक हार्डवेयर (Internal Hardware) है |

कंप्यूटर को दिया जाने वाला हर Instruction  Microprocessor के पास जाते हैं और वह दिए गये order का पालन करता है और उस दिये गये order को इंस्ट्रक्शन (Instruction) कहते हैं और Instruction द्वारा दिए गये order का पालन करने को  प्रोसेसिंग (Processing) कहते हैं ।

दोस्तों माइक्रोप्रोसेसर को दो निम्नलिखित ढांचों में बाँटा गया हे पहला CISC माइक्रोप्रोसेसर , RISC माइक्रोप्रोसेसर |  CISC माइक्रोप्रोसेसर  की फुल फॉर्म “काम्प्लेक्स इंस्ट्रक्शन सेट कंप्यूटिंग (complex instruction set computing)”  है|  अगर आप इतिहास में देखें तोह जहाँ  पहले computer थे तोह Instruction लिमिटेड या सिमित थे , technology भी लिमिटेड थी, लेकिन जब technology में सुधर हुआ तोह computer के लिए Instruction  भी ज्यादा बढ़  गये |

यह मुख्य रूप से desktop, laptop में उपयोग किया जाता है। आमतोर पर यह microprocessor  “Client Base Computer” में इस्तेमाल होते हैं | इस microprocessor के उदाहरण ये भी हो सकते हैं :- Dual Core, Core i3 , Core i5, Core i7, Core i9 इत्यादि | दूसरा  RISC माइक्रोप्रोसेसर, यह फुल फॉर्म “रेढूसड़ इंस्ट्रक्शन सेट कंप्यूटिंग (reduced instruction set computing)” है| यह microprocessor CISC के पूरा उल्टा है |

दर्शल RISC microprocessor  बहुत ही कम Instruction पर काम करने की श्चमता रखता है |   जो सरल और छोटे Insturction के कारण इसे बहुत तेजी से Execute करता है। इस प्रकार के microprocessor  विशेष कार्य जैसे Database, server, ईमेल क्लाइंट इत्यादि के लिए डिज़ाइन होते हैं, इसलिए यह मुख्य रूप से यह server computer में उपयोग किया जाता है।  इस microprocessor के उदाहरण ये भी हो सकते हैं :- Xeon, Athlon इत्यादि | 

अगर इसके इतिहास की बात करें तोह Microprocessor का अविष्कार सबसे पहले इटली द्वारा किया गया |  जिस Microprocessor  को 4004 Microprocessor के नाम से जाना गया  and इटली ने इस Microprocessor को 1971 में बाज़ार में लाया गया |

वैसे तोह 4004 Microprocessor का अविष्कार इटली ने 1969 में ही कर दिया था but जिसके निर्माण के लिए जापानी कंपनी “बिजीकॉम” ने इटली को आर्डर दिया था but जिसके Research के रूप में इटली के इंजीनियर “टेड हॉफ” का नाम लिया गया |

टेड हॉफ वैसे तोह researcher नही थे or न ही वोह कोई चिप Engineer थे but बिजीकॉम की चिपों के फेरबदल के कारण उन्होंने 4004 Microprocessor  का निर्माण किया | जिसमे 4 बिट Microprocessor  को connect किया गया। इसके बाद सन् 1974 में एक और  Microprocessor  को एकल चिप के रूप में बनाने की घोषणा की गई थी। 

Leave a Reply